a little time to smile & share

March 28, 2009

mer pahad

Filed under: Uncategorized — aloksah @ 11:01 am
अगरमेरागांवमेरादेशहोसकताहै
तोम्यारपहाड़क्योंनही ?
मेरापहाड़लेकिनऐसाकहनेसेयेसिर्फमेराहोकरनहीरहजातायेतोसबकाहैवैसे
हीजैसेमेराभारतहरभारतवासीकाभारत।खैरपहाड़कोआजदोअलगअलगदृष्टिसे
देखनेकीकोशिशकरतेहैं, एककल्पनाकेलोकमेंऔरदूसरासच्चाईकेधरातलमें।
जिनकीनई नईशादियांहोतीहैंहनीमूनकेलियेउनमेंज्यादातरकीपहलीयादूसरीपसंद
होतीहैकोईहिलस्टेशन।बच्चोंकीगर्मियोंकीछुट्टीहोतीहैउनकीभीपहलीया
दूसरीपसंदहोताहैकोईहिलस्टेशन, अबबूढ़ेहोचलेहैंधर्मकर्मकरनेमनहोचला
हैतोभीयादआताहैम्यारपहाड़चारधामकीयात्राकेलिये।
पहाड़कीखूबसूरतीहोतीहीऐसीहैकिकिसीकोभीबरबसअपनीतरफआकर्षितकरले,
वो ऊंचीऊंचीपहाड़ियाँ, सर्दियोंमेंबर्फसेढकीवादियाँ, पहाड़ोंकोचुमनेकोबेताब
दिखतेबादल ,मदमस्तकिसीअलहड़सीभागतीपहाड़ीनदियां, सांपकीतरहभागतीहुई दिखायीदेतीसड़कें, कहींदिखायीदेतेवोसीढ़ीनुमाखेततोकहींदिलकोदहलादेनी
वालीघाटियां , जाड़ोंकीगुनगुनीधूपऔरगर्मियोंकीशीतलता।शायदयहीसबहैजो
लोगोंकोअपनीऔरखिंचताहै, बरबसउन्हेंआकर्षितकरताहैअपनेतरफआनेको।
लेकिनपहाड़ मेंरहनेवालेकेलिये, एकपहाड़ीकेलियेयेशायदरोजकीहीबातहो !!

मेरापहाड़सेक्यारिश्ताहैयेबतानामैंआवश्यकनहींमानतापरपहाड़मेरेलिये

माँकाआंचलहै ,मिट्टीकीसौंधीमहकहै , ‘ हिसालूकेटूटेमनकेहै ,
काफलकोनमक तेलमेंमिलाकरबनास्वादिष्टपदार्थहै ,
क़िलमोड़ीऔरघिंघारू
केस्वादिष्ट जंगलीफलहैं ,
भटकीचुणकाणी है ,
घौतकीदालहै ,
मूली दही डालकेसानाहुआनीबूहै
बेड़ूपाकोबारामासा है ,
मडुवेकीरोटीहै
मादिरेकाभातहै ,
घटकापिसाहुआआटाहै ,
ढिटालूकीबंदूकहै ,
पालकका कापाहै ,
दाणिमकीचटनी है।
मैंपहाड़कोकिसीकविकीआँखोंसेनयी नवेलीदुल्हनकी तरहभीदेखताहूंजहांचीड़
औरदेवदारुकेवनोंकेबीचसरसरसरकतीहुईहवाकानोंमेंफुसफुसाकरनाजानेक्या
कहजातीहैऔरएकचिंतितऔरसंवेदनशीलव्यक्तिकीतरहभीजोजन , जंगल ,जमीनकी
लड़ाईकेलियेदेहकोढालबनाकरलड़रहाहै. लेकिनमैंनहींदेखपाताहूँपहाड़को
तो.. डिजिटल कैमरालटकायेपर्यटककीभाँतिजोहरखूबसूरतदृश्य कोअपनेकैमरेमें
कैदकरअपनेदोस्तोंकेसाथबांटनेपरअपनेकीतीसमारखांसमझने लगताहै।
पहाड़, शिवकीजटासेनिकलीहुईगंगाहै, कालिदासकाअट्टाहासहै, पहाड़सत्यका
प्रतीकहै , जीवनकासाश्वतसत्यहै।कठिनपरिस्थितियोंमेंभीहँसहँसकरजीनेकी
कलासिखानेवालीपाठशालाहै. गाड़, गध्यारोंऔरनौलेकाशीतल, निर्मलजलहै,
तिमिल केपेड़कीछांहहै, बांजऔरबुरांसकाजंगलहै, आदमखोरलकड़बग्घोंकीकर्मभूमिहै।
मिट्टीमेंलिपटे, सिंगाणेकेलिपोड़ेकोकमीजकीबांहसेपोछ्तेनौनिहालोंकी
क्रीड़ास्थली है।
मोव ( गोबर) कीडलियाकोसरमेंलेजातीमहिलाकीदिनचर्याहै,
पिरूलसारती , ऊंचेऊंचेभ्योलोंमेंघासकाटतीऔरतकाजीवनहै।
कैसेभूलसकताहैकोईऎसेपहाड़को, पहाड़तूनेहीतोदीथीमुझेकठोरहोकरजीवनकी
आपाधापियोंसे लड़नेकीशिक्षा।कैसेभूलसकताहूँमैंअसोजकेमहीनेमेंसिरपर
घासकेगट्ठरकाढोना, असोजमेंबारिशकीतनिकआशंकासेसूखीघासकोसारकेफटाफट
लूटेकाबनाना, फटीएड़ियोंकोकिसीक्रैकक्रीमसेनहींबल्कितेलकीबत्तीसे
डामनाफिरवैसलीननहींबल्किमोमतेलसेउनचीरोंकोभरना, लीसेकेछिलुकेसे
सुबहसुबहचूल्हे…..
By Kakesh
http://kakesh.com/
Advertisements

10 Comments »

  1. true pahadi spirit!!!

    Comment by vivek — March 29, 2009 @ 2:37 pm | Reply

  2. Daajyo bahut badi ch…

    Comment by Digumber Datt Joshi — March 30, 2009 @ 5:36 am | Reply

  3. Wow,
    a gr8 thought

    🙂

    Comment by Bimlesh — May 26, 2009 @ 11:49 am | Reply

  4. सच्ची में सही लिख रों “म्यार पहाड़”. बचपनक दिन याद इए गए साह जी……………..

    Comment by Jay Rautela — August 27, 2009 @ 11:52 am | Reply

  5. Baad bhal Copy paste kari chau daajyu…:). Good Work dude.

    Comment by Chetan Pandey — August 27, 2009 @ 12:00 pm | Reply

  6. A Really sketch of “Myaar Pahad” excellent description…..

    Purna sachayee to vyakt karta hua………………..

    Comment by Dileep Rawat — August 27, 2009 @ 12:07 pm | Reply

  7. 🙂 good one dear…
    gv us the midas touch of pahar 🙂

    Comment by Manav — October 12, 2009 @ 7:14 am | Reply

  8. good one dude !!

    Comment by govahma — January 7, 2010 @ 7:34 am | Reply

  9. Very nice posting, i liked very much, lekin pura hota to aur aanand aata!

    Comment by Surender Kaira — October 12, 2010 @ 7:26 am | Reply

  10. Apne hi dil ki baat likhi hui si lagi, Nainital ke Girda ki yaad aa gayi. Koi pahad mein pala badha ho to usey yeh anubhuti hogi, Seema

    Comment by Seema — February 1, 2011 @ 3:50 pm | Reply


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: